Breaking News
Home / India / Uttar Pradesh / सपा-बसपा, आरएलडी गठबंधन भारी न पड़ जाए भाजपा को- पढ़ें पूरी खबर

सपा-बसपा, आरएलडी गठबंधन भारी न पड़ जाए भाजपा को- पढ़ें पूरी खबर

देवरिया लाइव ■ लोकसभा चुनाव 2019 का महासंग्राम अब होने को है जिसके तहत सपा-बसपा गठबंधन में अजीत सिंह की पार्टी रालोद की भी एंट्री लगभग तय मानी जा रही है। अब इन तीनों दलों में पश्चिमी यूपी में सीटों के बंटबारे का फार्मूला तय हो चुका है, जिनमें से 3 सीटों पर आरएलडी अपने सिंबल पर चुनाव लड़ेगी। जबकि हाथरस की सीट पर सपा के सिंबल से आरएलडी का प्रत्याशी चुनाव लड़ेगा। वहीं पश्चिमी यूपी की 8 सीटों पर समाजवादी पार्टी का प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतरेगा।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, 11 सीटें मायावती की बहुजन समाज पार्टी के खाते में जा सकती हैं,हालांकि सीटों के बंटबारे का अभी औपचारिक ऐलान होना बाकी है।

आइए देखते हैं कि चुनावी गणित में कौन कहां से लड़ सकता है

मायावती की बसपा के हिस्से में पश्चिमी उत्तर प्रदेश की नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, हापुर, बुलंदशहर, आगरा, फतेहपुर सीकरी, सहारनपुर, अमरोहा, बिजनौर, नगीना और अलीगढ़ लोकसभा सीट गई है। जबकि पश्चिमी यूपी की बागपत, मुजफ्फरनगर और मथुरा लोकसभा सीट पर गठबंधन की तरफ से चौधरी अजीत सिंह की राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) का प्रत्याशी चुनाव लड़ेगा। वहीं अखिलेश की समाजवादी पार्टी के खाते में पश्चिमी यूपी की हाथरस, कैराना, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, मैनपुरी, फिरोजाबाद और एटा लोकसभा सीट आई है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, तीन सीटों पर आरएलडी नेता ही उम्मीदवार होंगे। जबकि एक सीट पर आरएलडी के सिंबल पर कोई सपा नेता चुनावी मैदान में होगा। सूत्रों के मुताबिक, गठबंधन में मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट से चौधरी अजीत सिंह की उम्मीदवारी तय हुई है। जबकि बागपत लोकसभा सीट से जयंत चौधरी आरएलडी के उम्मीदवार हो सकते हैं । वहीं हाथरस से आरएलडी के सिंबल पर चुनावी मैदान में सपा नेता का चुनाव लड़ना लगभग तय मना जा रहा है। सूत्रों की मानें तो हाथरस सीट से मुलायम सिंह के करीबी रहे सपा नेता को आरएलडी उम्मीदवार बनाया जाएगा।

About ankita tiwari

Check Also

एप पर से मिलेगी छुट्टी- नहीं लगाने पड़ेंगे चक्कर अधिकारियों के

देवरिया लाइव ■ अवकाश के लिए पुलिस वालों को अब अधिकारियों का चक्कर नहीं लगाना …

Leave a Reply