नशे में चूर व अहंकारी मोदी सरकार- प्रियंका गांधी

देवरिया। कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने अपनी बात देवरहा बाबा को याद करते हुए शुरू की। फिर भाजपा को निशाने पर लेते हुए बोलीं आज असत्य की राजनीति की जा रही है। जो कुछ दिख रहा है उसकी वजह प्रचार तंत्र है। प्रधानमंत्री प्रचार में बहुत मजबूत हैं। यूपी की जिम्मेदारी मिली तो सबसे पहले गंगा यात्रा करते हुए वाराणसी पहुंची। वहां का विकास देखना चाहती थी। पर यह देख कर काफी दु:ख हुआ कि पांच साल में अमेठी के मुकाबले उसका कुछ भी विकास नहीं हुआ है। 10 साल की थी तो पिता जी (राजीव गांधी) के साथ अमेठी जाया करती थी। उस समय केंद्र और प्रदेश दोनों जगह हमारी सरकारें थीं। तब अमेठी का इतना तेजी से विकास हुआ की पांच साल में कायाकल्प हो गया। अभी केंद्र और प्रदेश में दोनों जगह भाजपा की सरकारें होने के बावजूद पुराने पुल पर चीनी लाइटें लगा नया दिखा कर वाहवाही लूटी जा रही है। प्रियंका ने कहा कि हम आज भी अमेठी जाते हैं तो गांव के बूढ़े-बुजुर्ग बताते हैं कि आपके पिता जी आए थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी आते हैं तो बड़े लोगों के साथ बड़ी-बड़ी मीटिंगे की जाती हैं, लेकिन वे पांच साल में किसी गांव में किसी गरीब से मिलने नहीं गए। वे टीवी पर दिखते हैं, जापान में दिखते हैं, चीनी राष्ट्रपति से गले मिलते दिखते हैं और पाकिस्तान में बिरयानी खाते दिखते हैं परन्तु किसानों से मिलते कभी नहीं दिखते। प्रियंका ने उन्हें नशे में चूर अहंकारी बताते हुए कहा कि हजारों किसान पैदल दिल्ली उनसे मिलने गए थे परन्तु पांच मिनट उनको समय नहीं दिया। उद्योगपतियों का तो साढे़ पांच सौ हजार करोड़  रुपए माफ कर दिया लेकिन किसानों का कर्ज माफ नहीं किया। उन्होंने आरोप लगाया कि 15 लाख रुपए और दो करोड़ रोजगार देने की बात करने वाली भाजपा ने रुपए तो खाते में नही भेजे पांच करोड़ रोजगार घटा दिए।

नोटबंदी पर सवाल उठाते हुए बोलीं कि जनता ने तो लाइन में लगकर उनका पूरा साथ दिया लेकिन एक रुपए भी काला धन वापस नहीं आया। जनता की इस आपत्ति में मेरे भाई राहुल गांधी तो कतार में खड़े रहे लेकिन प्रधानमंत्री को किसी आपत्ति में जनता के साथ खड़ा होते आज तक नही देखा। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में जनता सबसे मजबूत होती है। लेकिन 56 इंच की बात करने वाले सवाल उठाने वालों को जेल भेज दे रहे हैं। इस सरकार की मानसिकता ही लोकतांत्रिक नही है। प्रियंका ने राफेल में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि इसमें प्रधानमंत्री ने सीधे अपने मित्र को फायदा पहुंचाने के लिए 30 हजार करोड़ रुपए के लड़ाकू विमानों की खरीद का ठेका एक भी जहाज नहीं बनाने वाले को दे दिया। फिर कांग्रेस के घोषणा पत्र का जिक्र करते हुए कहा कि जनता की राय से हमारी पार्टी ने इसे तैयार किया है। सरकार बनते ही हम सभी के साथ न्याय करेंगे।   

Leave a Reply