किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस ने मारपीट का मामला बताया

देवरिया लाईव ■  अहिरौली क्षेत्र के एक गांव की किशोरी को कुछ लोग घर से उठा ले गए और उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पीड़ित मां गुहार लगाती रही, लेकिन मदद में कोई आगे नहीं आया। बाद में आरोपी खून से लथपथ किशोरी को उसके दरवाजे पर लाकर छोड़ गए। पीड़ित मां की सूचना पर यूपी-100 की टीम पहुंची और निकट के अस्पताल ले गई। पीड़ित मां ने शनिवार को तहरीर दी तो पुलिस ने नाली के विवाद में मारपीट की घटना बताकर किशोरी का इलाज कराने की नसीहत दे दी।

पीड़ित मां का कहना है कि गांव के एक परिवार से उसका विवाद है। बीती रात विपक्षी के घर दावत थी, उसमें कुछ बाहरी लोग आए थे। आरोप लगाया कि छह-सात की संख्या में जुटे लोगों ने भोजन के साथ शराब पी। रात करीब आठ बजे नशे की हालत में गाली देते हुए उसके दरवाजे पर आ गए।

वे लोग उसकी 13 वर्षीय बेटी को अपने घर उठा ले गए। आरोप है कि लोगों ने उसकी बेटी के साथ दरिंदगी की। सूचना पर यूपी-100 पुलिस पहुंचती, तब तक आरोपी बेहोशी की हालत में खून से लथपथ बेटी को दरवाजे के बाहर छोड़ कर भाग गए। पुलिस टीम बेटी को पीएचसी पिपराइच ले गई। प्राथमिक उपचार के बाद उसे लेकर मां घर चली आई। यूपी-100 पुलिस ने अहिरौली थाने को सूचना भी दी, लेकिन पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

पीड़ित मां किशोरी को लेकर थाने गई तो उसे भगा दिया गया। पुलिस ने बेटी का इलाज कराने की नसीहत दी। सुबह पीड़ित की मां बेटी को लेकर सुकरौली पीएचसी पहुंची, जहां उसकी गंभीर हालत देेखते हुए डॉक्टर ने महिला डॉक्टर के पास सीएचसी देवतहा भेज दिया, जहां उसका उपचार चल रहा है। एसओ अहिरौली बाजार ने बताया कि मामला संज्ञान में है। दोनों पक्षों में नाली का विवाद है। उसी को लेकर मारपीट हुई थी। सामूूहिक दुष्कर्म जैसी कोई घटना नहीं हुई है। मामले को दिखवाया जा रहा है।

एसओ को मुकदमा दर्ज करने का दिया गया है आदेश

अहिरौली बाजार थाना क्षेत्र की किशोरी के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एसपी राजीव नारायण मिश्र का कहना था कि मामला संज्ञान में है। एसओ को तहरीर के आधार पर मुकदमा पंजीकृत कर आगे की कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है।

Leave a Reply