किसान की खुदकशी मामले पर मुख्यमंत्री गंभीर, दो गिरफ्तार

देवरिया लाईव ■ कुशीनगर जिले के कसया थाना क्षेत्र के गांव धुरिया निवासी कर्ज में डूबे किसान की आत्महत्या की गूंज प्रदेश की राजधानी लखनऊ तक पहुंची तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लिया। प्रशासन से पूरे मामले पर रिपोर्ट मांगी तो मामले की जांच हुई। जांच रिपोर्ट प्रशासन ने रिपोर्ट में आत्महत्या का मुख्य कारण कर्ज बताया है। जिला प्रशासन की ओर से ज्वाइंट मजिस्ट्रेट अभिषेक पांडेय ने गांव पहुंच कर पूरे मामले की जांच की।

गांव के लोगों व मृत किसान के परिजनों से बातचीत की। इस दौरान किसान का लिखा सुसाइड नोट भी मिला, जिसमें मृतक किसान गोविंद ने लिखा है कि बैनामे के मद की 1.21 लाख रकम अदा न कर पाने के कारण आत्महत्या कर रहा हूं। कर्ज के लिए दोनों भाइयों भगवान सिंह, रविन्द्र सिंह के अलावा चाचा बांके सिंह को वजह बताया है। सुसाइट नोट में किसान ने लिखा है कि कुल 3.27 लाख कर्ज और एक लाख में गांव के कृष्णचंद के पास कुल चार कट्ठा खेत बंधक रखा गया है। ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आत्महत्या की पुष्टि हुई है। सुसाइड नोट भी मिला है। पूरे मामले की रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है। आत्महत्या के लिए जो दोषी हैं, पुलिस उनके विरुद्ध कार्रवाई कर रही है। पत्नी किरण सिंह, पुत्र मनीष, पुत्री किरण ने भी इस बात को स्वीकारा कि मौत की मुख्य वजह कर्ज ही है। दो भाई और चाचा पर केस, दोनो भाई गिरफ्तार कसया थाना क्षेत्र के गांव धुरिया सिंहपुर में कर्ज से डूबे किसान गोविंद सिंह की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने गुरुवार को दो लोगों को गिरफ्तार किया।

सुसाइड नोट के आधार पर मृतक के भाई रविद्र सिंह, भगवान सिंह व चाचा बांके सिंह पर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज हुआ है। रविन्द्र व भगवान को गिरफ्तार किया गया है। थानाध्यक्ष सुनील राय ने बताया कि उच्चाधिकारियों के निर्देश पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। ऐसे की थी आत्महत्या कुशीनगर जिले के कसया थाना क्षेत्र के गांव धुरिया सिंहपुर निवासी किसान गोविंद सिंह मंगलवार की रात खाना खाकर सोए थे। दूसरे दिन सुबह उनका शव कमरे की दीवार में बने होल में रस्सी के फंदे से लटका मिला। पुत्र मनीष ने थाने में दी तहरीर में लिखा है कि खेती, मकान बनवाने एवं बेटी रींकू की शादी के लिए उन्होंने कर्ज ले रखा था। यह कर्ज बैंक, स्वयं सहायता समूह और गांव के कुछ लोगों से लिया गया था। कर्ज की अदायगी नहीं हो पा रही थी। इससे वह काफी परेशान थे। पत्‍‌नी किरन का भी यही कहना है कि कर्ज की चिंता में उन्होंने आत्महत्या की है।

Leave a Reply